Google


गूगल पेजरेंक वगैरह से अब हम थोड़ा बहुत परिचित हुए हैं लगता है कि पुराने शब्‍दशिल्‍प को मिटा देने का फैसला निरी मूर्खता थी। तब हम बहुत समय से थे और पहले से होने का लाभ तो खैर मिलता ही। पर चलो कोई नहीं। अब इस ब्‍लाग पर भी कुछ पोस्‍ट की जाएंगी। पूरी योजना तो खैर अभी बनाई ही जा रही है।

Related Posts



2 comments

  1. masijeevi  

    8:56 PM

    testing

  2. Shrish  

    9:44 AM

    स्वागत है आए, अब लिखना शुरु करो न।